मानव शरीर की पांच जान लेवा बीमारियां

healthinhinditips- में स्वागत है आज की पोस्ट में हम पांच जानलेवा बीमारियों के बारे में बताने बाले है यह बीमारिया मनुष्य के लिए बहुत ही खतरनाक बीमारिया है क्यों कि यह पांच खतरनाक बीमारियों से मनुष्य की जान, जाने का खतरा सबसे अधिक रहता है। इन बीमारियों से प्रत्येक मनुष्य को  बचना चाहिए। क्योकि  यह पांचो बीमारिया मनुष्य के शरीर में धीरे- धीरे अपना असर दिखाना शुरू कर देती है और समय के साथ यह पांचो बीमारिया शरीर में फैलती जाती है और कुछ समय पश्चात यह बीमारिया भयानक रूप लेलेती  है जो मनुष्य के जीवन के लिए बहुत खतरनाक है इन बीमारियों के भयानक रुप  लेने के बाद मनुष्य का बचाना  असंभव हो जाता है। यह पांच कौनसी खतरनाक बीमारिया है और इन पांच बीमारियों से आप किस प्रकार से बच सकते है तो चलिए जानते है -


मानव शरीर की पांच जान लेवा बीमारियां
मानव शरीर की पांच जान लेवा बीमारियां 


मानव शरीर की पांच जान लेवा बीमारियां 

(1) AIDS बीमारी :-   



AIDS मानव शरीर के लिए बहुत खतरनाक बीमारी है AIDS से पीड़ित व्यक्ति अपनी जीवन की  उम्मीद छोड़ कर मृत्यु की राह देखने लगता है। AIDS एक खतरनाक वायरस से होने बाली बीमारी है इस वायरस को HIV के नाम से जाना जाता है AIDS  बीमारी या AIDS से ग्रसित व्यक्ति के साथ यौन क्रियाओ ( शारीरिक सम्बन्ध) के द्वारा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलती है और इसके अलावा भी यह HIV वायरस दूषित सृन्जो , व्लेडो  आदि के माध्यम से एक से दूसरे में फैल  सकता है। 

AIDS बीमारी के लक्षण जानना हमारे लिए बहुत आवश्यक है। क्योकि AIDS बीमारी का पता लगाने के लिए  इसके लक्षणों का ज्ञान होना जरूरी है तो आइये जानते है एड्स बीमारी के लक्षण - 

एड्स बीमारी के लक्षण

यह लक्षण दिखने पर इससे यह स्पष्ट नहीं होता की आप को AIDS बीमारी है अगर आप को यह लक्षण दिखते है तो आप को तुरंत HIV टेस्ट कराना चाहियें। जिससे आप एड्स से ग्रसित है या नहीं इसका पता लगाया जा सकता है। 

a. सोते समय पसीना आता है।  
b. मुँह पर खुजली होना।  
c. लगातार अधिक दिनों तक बुखार से ग्रषित होना। 
d. अचानक से मुँह में घाव होने लगते है। 
e. वार- वार  दस्त लगना।  
f. वजन तेजी से घटने लगता है। 

AIDS से बचने के उपाय 

यौन सम्बन्ध बनाने से पहले HIV टेस्ट अवस्य करवाना  चाहिए
दूषित सरंजो और  दाडी बनबाते समय पुरानी इस्तिमाल की हुई ब्लेड्सो का  प्रयोग नहीं करना चाहिए   

(2) कैंसर बीमारी :-  

कैंसर मनुष्य के जीवन को धीरे धीरे क्षरण करने वाली बीमारी है जो मनुष्य में मृत्यु का कारण भी बन जाती है कैंसर बीमारी को नष्ट करने के लिए कोई इलाज अभी तक स्थाई रूप से नहीं है जो इस बीमारी को जड़ से ख़तम कर सके परन्तु उपचार के माध्यम से कुछ समय के लिए इसे नियंत्रित किया जा सकता है कैंसर बीमारी एक प्राण घातक बीमारी है कैंसर कई प्रकार का हो सकता है जैसे -  मुँह का कैंसर, ब्लड कैंसर , गले का कैंसर , ब्रेस्ट कैंसर ,  इत्यादि   इन बीमारीयो से  ग्रषित मनुष्य का जीवन नष्ट होने लगता है इन बीमारियों का किस प्रकार से पता लगा सकते है चलिए इसके लक्षणों के बारे में हम जान लेते है  - 

कैंसर के लक्षण 

a.  खासी के सांथ  खून आने लगता है 
b. पेशाब के साथ खून आने लगता है 
c. स्तन में गाँठ पड  जाती है

कैंसर  से बचने के उपाय  

किसी भी प्रकार का नशा नहीं करना चाहिए जैसे धूम्रपान ,शराब , गुटखा ,तंबाकू इत्यादि का सेवन नहीं करना चाहिए 

(3.) T.V.  बीमारी :-



टी.बी मनुष्य के लिए जानलेवा बीमारी है इसे हिंदी में क्षय रोग कहते है  जो भारत में लाखो लोग टी.बी बीमारी  से ग्रषित  होते है टी.बी बीमारी का इलाज आज के समय में संभव हो गया है कुछ हद तक टी.बी. बीमारी से ग्रषित मनुस्य को आज के समय में 99 % तक बचाया जा सकता है टी.वी. के लक्षण जानना हमारे लिए बेहद आवश्यक है क्योकि लक्षणों के पता होने के बाद ही हमें तुरंत इलाज करवाना चाहिए जिससे टी.वी. रोग से ग्रषित मनुष्य को बचाया जा सके  तो चलिए जानते है टी.वी रोग के लक्षणो के बारे में 

टी.वी. बीमारी के लक्षण

(1) लम्बे समय तक खासी का होना या 3 हफ्ते से ज्यादा दिनों तक खासी होना 
(2) तेज खासी में बलगम के सांथ खून का आना 
(3) रात के समय में प्रतिदिन बुखार आना 
(4) वजन का भारी मात्रा में काम होना 

टी.वी. बीमारी से बचने के उपाय 

लम्बे समय तक खासी ठीक न होने की स्थिति में  अच्छे से  डॉक्टर से चेकअप करबाय अगर आपके बलगम में खून आता है तो ऐसे नजरअंदार न करे और तुरंत डॉक्टर की सलाह ले। 

(4)  डेंगू बीमारी :- 

डेंगू एक संक्रामक रोग है जो मादा एडीज़ मच्छर के काटने के कारण होता है डेंगू मनुष्य के लिए जान लेवा बीमारी हैं। हर साल हजारो लोग डेंगू रोग के कारण अपनी जान गवा देते है डेंगू का लार्वा जमे हुए साफ पानी में पनपता है इसका प्रभाव बरसात  के समय अधिक सक्रीय होता है क्योकि इस मौसम में अधिक समय तक एक जगह एकत्रित हो जाता  जो डेंगू के लार्वे के पनपने के लिए एक उचित स्थान होता है  इन मच्छरों के काटने से डेंगू होता है जो बेहद खतरनाक बीमारी होती है जिससे जान जाने का खतरा अधिक रहता है बहुत से लोग इस बीमारी से पीड़ित होकर अपनी जान को गवा देते है। 
डेंगू बीमारी का पता कैसे लगते है इसके लिए आपको लक्षणों  का ज्ञान होना आवश्यक है  लक्षणों के ज्ञान होने पर अआप इस रोग का पता लगा सकते है और इसका चेकअप करवा सकते है तो चलिए जानते है डेंगू के लक्षण और उपचार के वारे में -

डेंगू रोग के लक्षण :-

(1)डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को 2 - 3 दिन के अंदर इसका प्रभाव दिखने लगता है और प्रति दिन हड्डीतोड़ बुखार आने लगता है 
(2)डेंगू से पीड़ित व्यक्ति के पेट पर लाल दाने दिखने लगते है और यह फ़ैल कर पूरे शरीर में हो जाते है 
(3)जोड़ो और मासपेशियो में दर्द होने लगता है और पेट ख़राब हो जाता है
(4)डेंगू से पीड़ित व्यक्ति का तेज सर दर्द करने लगता है 

डेंगू से वचाव के उपाय  

(1) हमारे आसपास जल भराब न होने दे 
(2) डेंगू बुख़ार बच्चो पर सबसे ज्यादा असर करता है बच्चो को पूरे कपडे पहनाना चाहिए
(3) घर में मच्छर भागने बाले पधारतो  का इस्तेमाल करना चाहिए   
(4) बाहर जाते समय  मच्छरों से वचाव बलि क्रीम का उपयोग करना चाहिए

(5) स्वाइन फ्लू बीमारी :-

स्वाइनफ्लू बीमारी मनुष्य के लिए जान लेवा होती है यह एक संक्रामक बीमारी होती है। जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैलती है यह बीमारी श्वास के माध्यम से सर्वाधिक फैलती है 

इस बीमारी का मुख्य कारण H1N1 वायरस होता है  इस बुखार की भारत में शुरुआत 2009 से हुई है यह बुखार  अब बहुत  तेजी से विश्वव्यापी रूप ले रहा है इस बुखार से पीड़ित मरीज को कमजोरी व थकावट महसूस होने लगती है  यह बुखार थोड़ी सी लापरवाही से भी हो सकता है जैसे -सर्दी जुखाम  के सांथ  खरास का आना इस लिए यह आवश्यक है सर्दी, जुखाम, बुखार, उलटी, दस्त लगातार होने पर डॉक्टर की सलाह ले और स्वाइनफ्लू  की जाँच कराये और इससे बचने के लिए बहार जाते समय मास्क का प्रयोग जरूर करे।


नोट - हेलो दोस्तों अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इस पोस्टो को अपने रिश्ते दार और दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे। 

2 टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

नया पेज पुराने
close